Posts Tagged Surekha Sikri

Hindi Review: Premchand Munshi’s Tehrir Godaan गोदान


प्रेमचंद मुंशीजी की गोदान पर आधारित “तहरीर” धारावाहिक की समीक्षा 

“गोदान” मुंशी प्रेमचंद का एक प्रसिद्ध हिंदी उपन्यास है। सन १९३६ में प्रकाशित हुआ यह उपन्यास हिंदी साहित्य के महान उपन्यासों में गिना जाता है। यह उपन्यास की बात करने से पहले मुंशीजी के बारे में थोड़ी बाते करते है. हिंदी साहित्य की दुनिया में मुंशी जी का स्थान बहोत उत्कृस्ट लेखकों में है. उन्होंने लिखे हुए उपन्यासमे गोदान, कर्मभूमि, गबन, मानसरोवर, ईदगाह जैसी प्रसिद्ध और लोकप्रिय किताबे शामिल है. उन्होंने १२ से अधिक प्रसिद्द किताबे लिखी है और ३०० से ऊपर छोटी कहानिया लिखी है और उनकी किताबो का अंग्रेजी और कई विदेशी भाषाओंमे अनुवाद किया गया है.     

सन १९६३ में “गोदान” के ऊपर हिंदी चलचित्र बनाया गया था जिसमे राज कुमार, कामिनी कौशल, महमूद और शशिकला ने अभिनय किया है. 

सन 2004 में, मुंशीजी की गोदान के ऊपर आधारित,  गुलज़ार द्वारा निर्देशित, टीवी श्रृंखला, “तहरीर” दूरदर्शन के ऊपर पेश की गई थी जिसमे पंकज कपूर और सुरेखा सीकरी ने अभिनय किया है. 

Nature, Kokan, Sindhudurg, Goa, Farmer, Green

यह 1930 के दशक के ग्रामीण भारत में बस्ते हुए किसानों के जीवन पर केंद्रित एक उत्कृष्ट कहानी है। ये गरीब और बड़े पैमाने पर अशिक्षित किसान गरीबी और कर्ज के चक्र में फंसे हुए हैं। जमींदार, ठाकुर, पंचायत के सदस्य और ब्राह्मण पुजारी सहित उच्च वर्ग के विभिन्न सदस्य इस तथ्य का लाभ उठाते हैं कि किसान उनकी बड़ी इज्जत करते हैं और उनका गहरा सम्मान करते हैं। वास्तविक और काल्पनिक अपराधों के लिए, किसानों पर जुर्माना लगाया जाता है, उनके जानवरों (और कभी-कभी उनके खेतों) को अत्यधिक ब्याज दरों पर दिए गए ऋण के बदले में जब्त कर लिया जाता है. इस प्रकार पीढ़ियों से गरीबी का चक्र जारी रहता है। कभी-कभी ये किसान ईर्ष्या के कारण अपने ही वर्ग के सदस्यों का निशाना भी बन जाते हैं. और जब एक किसान पूरी तरह से कर्ज में डूब जाता है और उस गरीब आदमी से निकालने के लिए कुछ भी नहीं बचा है, जिसने अपनी युवावस्था खो दी है तभी उसे अपनी प्यारी जवान बेटी की शादी बूढ़े आदमी से कराने के लिए प्रेरित किया जाता है। 

यह धारावाहिक विशेष रूप से एक किसान होरीराम और उसकी पत्नी धनिया और उनके तीन बच्चों के इर्द-गिर्द केंद्रित है। किसान होरीराम की भूमिका में पंकज कपूर और उनकी पत्नी धनिया की भूमिका में सुरेखा सीकरी का अभिनय अति उत्कृर्ष्ट और शानदार है. 

, , , , , , , , ,

1 Comment

Tehrir – Premchand Munshi’s Godaan serial review


“Godaan” is a famous Hindi novel by Munshi Premchand. Published in 1936, this novel is counted among the greatest novels of Hindi literature. Before talking about this novel and the series that is based on this novel and is streaming on Youtube, let’s talk a little about Munshiji. Munshi ji’s place in the world of Hindi literature is among some of the most outstanding writers. The novels he has written include famous and popular books like Godaan, Karmabhoomi, Gaban, Mansarovar, Idgah. He has written more than 12 famous books and over 300 short stories and his books have been translated into English and other foreign languages. I have written reviews in Hindi and Gujarati and will post them as well.

In 1963, a Bollywood film was made on “Godaan”, starring Raj Kumar, Kamini Kaushal, Mehmood and Sashikala. 

In 2004, Tehrir, directed by Gulzar, based on Munshiji’s Godaan, was aired on Doordarshan, starring Pankaj Kapur and Surekha Sikri.

Farmer ploughing field Rural farmer of Indian ethnicity ploughing field using wooden plough which is riding by two bullock. Farmer Stock Photo

This is a masterfully told story focusing on the lives of farmers in rural India of 1930s. These poor and largely uneducated farmers are caught in a cycle of poverty and debt. Various members of the upper classes including, jamindars, thakurs, members of the Panchayat, and brahmin priests take advantage of the fact that the farmers look up to them and deeply respect them. For real and imagined transgressions, fines are levied on the farmers, their animals (and sometimes their farms) are seized in return for loans given at exorbitant interest rates, receipts are never given of loan repayments leaving it to their will how much to extract from the poor farmers and thus continues the cycle of poverty for generations. Sometimes these farmers even become a target of the members of their own class, on account of jealousy. And when a farmer is fully driven into debt and there is nothing left to extract out of the poor man who has lost his youthful spirit and is well into his middle age, then he is cajoled into marrying his beloved young daughter to old man, twice her age, but one who is not likely to demand a dowry and may help the family financially. 

The serial is specifically centered around a farmer, Horiram and his wife, Dhania and their three children. Performances by Pankaj Kapur as Hori and Surekha Sikri as Dhaniya are absolutely flawless. The serial is heart-rending, flawlessly made with superb performances and engaging story, beautifully told. I watched it in Hindi but since Munshi’s stories are translated in other languages, I highly recommend that you try and find it and watch if possible.

, , , , , , , , , , , , ,

Leave a comment

%d bloggers like this: